Saturday, September 13, 2008

क्या क्या राज खोलती है आपकी ब्लॉगर प्रोफाइल?

कुछ लोग इस भ्रम में लगते हैं कि ब्लॉगर प्रोफाइल पर उनके जीमेल अकाउंट क्रियेशन की तारीख अंकित होती है. मैं इस भ्रम का कुछ निवारण करने की कोशिश करता हूँ.

सबसे पहली बात तो ये समझ लिया जाए कि जीमेल अकाउंट और ब्लॉगर अकाउंट दो एकदम अलग चीजें हैं. केवल जीमेल पर अकाउंट बना लेने भर से आपका ब्लॉगर प्रोफाइल पेज क्रिएट नहीं हो जाता.
(बड़े आकार में अलग टैब में देखने के लिए तस्वीरों पर क्लिक कीजिये.)
ये है जीमेल का मेन पेज. यहाँ से आप अपना मेल अकाउंट बना सकते हैं.
और ब्लॉगर का मेन पेज ये रहा. अगर आप अपना ब्लॉग बनाना चाहते हैं, या सिर्फ़ ब्लॉगर प्रोफाइल ही बनाना चाहते हैं, (जी हाँ ये भी सम्भव है कि आप बिना ब्लॉग बनाये सिर्फ़ ब्लॉगर आईडी ही बना लें, हम अभी आगे देखेंगे) तो आपको यहाँ से बनाना पड़ेगा.

ब्लॉग बनाने की प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होती है. शुरुआत होती है मेन पेज पर "Create Your Blog Now" लिंक पर क्लिक करके.
१) इस चरण में आपसे एक ईमेल आईडी और पासवर्ड माँगा जाएगा. अगर आपके पास पहले से जीमेल आईडी है तो आप उसे यहाँ भर सकते हैं. जरूरी नहीं है कि जीमेल पर ही आपकी आईडी हो. कोई भी अन्य पहले से तैयार ईमेल आईडी (जैसे याहू या हौटमेल पर) भी इस्तेमाल की जा सकती है. आगे बढ़ें.
२) अब इस दूसरे कदम पर आपसे अपने ब्लॉग का नाम और URL चुनने के लिए कहा जाएगा. भरें और आगे बढ़ें.
३) एक ब्लॉग टेम्पलेट चुनने के लिए कहा जाएगा. ब्लॉगर कुछ टेम्पलेट उपलब्ध करवाता है. इनमें से चुना जा सकता है. बाद में आप चाहें तो इसे बदल भी सकते हैं.
४) यहाँ से आगे बढ़ने पर "Your Blog has been created" का संदेश आ जाता है.

यहाँ आपका ब्लॉग निर्माण पूर्ण हो जाता है. अब अगर आप ब्लॉगर के मेन पेज पर ईमेल और पासवर्ड भर कर लोगिन करते हैं तो आप सीधे अपने डेशबोर्ड पर पहुंचेंगे.
यहाँ डेशबोर्ड पर आप देख सकते हैं कि आपका ब्लॉगर प्रोफाइल बन चुका है. आप प्रोफाइल को देख सकते हैं, उसे एडिट भी कर सकते हैं. डेशबोर्ड पर ही आपके ब्लॉग का नाम भी दिखेगा.
डेशबोर्ड पर प्रोफाइल के लिंक पर क्लिक करके आप ब्लॉगर प्रोफाइल के पेज पर पहुँचिये. ध्यान दीजिये कि प्रोफाइल पर क्रियेशन का महीना और वर्ष नजर आ रहे हैं. साथ ही आपके ब्लॉग का नाम भी.

तो हमने देखा कि आपको अपना ब्लॉग (या सिर्फ़ ब्लॉगर प्रोफाइल) बनाने के लिए ब्लॉगर के मेन पेज से शुरू करना होता है. सिर्फ़ जीमेल या कोई अन्य आईडी होने भर से आपका ब्लॉगर प्रोफाइल नहीं बन जाता. आपके ब्लॉगर प्रोफाइल के पेज पर भी वही तारीख अपने आप अंकित हो जाती है जब आपने अपना ब्लॉग (या ब्लॉगर प्रोफाइल) बनाया. इसे तय करना या बदलना किसी भी तरह आपके हाथ में नहीं है.

अब मान लीजिये कि आपने काफी पहले से सिर्फ़ अपना जीमेल अकाउंट बना रखा है, ब्लॉगिंग के बारे में आप कुछ नहीं जानते. तो अगर आज आप अपना ब्लॉग बनाने जाते हैं तो आपको ऊपर दर्शाए गए सभी चरणों से गुजरना होगा. तभी आपका ब्लॉगर प्रोफाइल का पेज बनेगा. और इस पेज पर आज ही की तारीख अंकित होगी. आपकी जीमेल आईडी कितनी पुरानी है, इससे कोई मतलब नहीं.

अगर आपके पास ब्लॉगर अकाउंट नहीं है, सिर्फ़ जीमेल आईडी है तो ब्लॉगर के मेन पेज से लोगिन करने का प्रयास आपको इस पेज पर पहुँचा देगा, जहाँ आपसे पहले ब्लॉगर अकाउंट बनाने के लिए कहा जाएगा. माने फ़िर से ऊपर वाली प्रक्रिया के सभी चरण.


कुल मिलाकर बात ये कि अगर आपका प्रोफाइल पेज, आपके ब्लॉगर अकाउंट का निर्माण का समय "अक्टूबर २००७" दिखाता है तो इसका अर्थ ये है कि "अक्टूबर २००७" में आपने या तो अपना ब्लॉग बनाया है या कम से कम ब्लॉगर आईडी बनाई है. इसके लिए आपको ब्लॉगर के मेन पेज पर जाना ही पड़ा होगा और इसीलिये दोनों ही स्थितियों में आप ये दावा नहीं कर सकते कि "मार्च २००८" तक ब्लॉग क्या होता है, आपको ये जानकारी ही नहीं थी.
---------------------------------------------------------------------
अब कुश भाई की बात ली जाए. इनका कहना है कि इन्होने अपना ब्लॉग "फरवरी २००७" में बनाया है और अपनी ब्लॉगर प्रोफाइल "सितम्बर २००६ में. इसीलिये इनकी प्रोफाइल पर "सितम्बर २००६" दिख रहा है. अब इसमें कोई अजीब बात नहीं है. हालांकि अधिकतर लोग ब्लॉगर आईडी के साथ ही साथ ब्लॉग भी बनाते हैं, पर ये बिल्कुल सम्भव है कि ब्लॉग बनाये बिना सिर्फ़ ब्लॉगर आईडी बना लिया जाए. ऐसा कई लोग करते हैं. वजह ये है कि कई ब्लॉग्स पर अनोनिमस कमेन्ट करने का ऑप्शन नहीं होता. अगर आप वहां कमेन्ट देना चाहते हैं तो आपको किसी आईडी की आवश्यकता पड़ेगी. लेकिन बात यही है कि आईडी बनाने के लिए भी आपको ब्लॉगर पर जाना ही होगा, और ऐसे में आपकी ये बात स्वीकार नहीं की जा सकती कि आप ब्लॉग के बारे में कुछ नहीं जानते.

कैसे बनायें ब्लॉगर आईडी बिना ब्लॉग बनाये?

आसान है. दरअसल ब्लॉग बनाने के तीन चरणों के दौरान आपकी ब्लॉगर प्रोफाइल पहले चरण में ही बन जाती है. अब दूसरे पेज पर पहुँचने के बाद (जहाँ आपसे ब्लॉग का वांछित नाम और URL पूछा जाता है) अगर आप पेज बंद करके बाहर आ जायें तो आपकी ब्लॉगर आईडी (और प्रोफाइल पेज) तो तैयार हो चुके होते हैं पर ब्लॉग नहीं.

अब अगर आप ब्लॉगर मेन पेज से लोगिन करते हैं तो अपने डेशबोर्ड पर पहुँच जायेंगे.
डेशबोर्ड कुछ ऐसा दिखेगा. ध्यान दीजिये कि प्रोफाइल पेज का लिंक दिख रहा है पर ब्लॉग नहीं है. इस बारे में सूचना भी है कि अभी आप किसी ब्लॉग के लेखक नहीं हैं. पर आपकी प्रोफाइल तैयार है.
प्रोफाइल पेज पर भी उसके क्रियेशन की तारीख दिखेगी, पर ब्लॉग का नाम नहीं क्योंकि वो अभी तक बना ही नहीं है.

तो ये है सारी कहानी. कहानी का सार? यही कि "अक्टूबर २००७" में ब्लॉग बनाया जाए या सिर्फ़ ब्लॉगर आईडी, ब्लॉगिंग के विषय में जानकारी के बिना नहीं हो सकते. और इस तरह ये कथन भी सरासर झूठ साबित होता है कि "२ मार्च २००८" का रविवारीय अमर उजाला किसी के लिए ब्लॉग जगत की जानकारी लेकर आया.
---------------------------------------------------------
अब एक बात और. ब्लॉगर आईडी और प्रोफाइल कब बने ये तो प्रोफाइल पेज पर अंकित हो जाता है, पर कोई ब्लॉग वास्तव में कब बना, ये पता करने का कोई तरीका नहीं है. पोस्ट की तारीख कुछ साबित नहीं करती कि वो पोस्ट वास्तव में कब लिखी गयी है. आप आज चाहें तो किसी भी बैक डेट में पोस्ट लिखकर पोस्ट कर दें. वो ब्लॉग आर्काइव में उसी पुरानी तिथि में अंकित हो जायेगी. इसी तरह आप पुरानी पोस्ट्स को मिटा भी सकते हैं.

8 comments:

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

dsabse pahle to bahut aabhar itni badhiya jaankari chitro ke sath dene ke liye..

jaha tak mere case ki baat hai.. main ek web development company mein hu aur din mein kam se kam 40 ids banata hu, ho sakta hai sep 06 mein maine bhi id banayi ho.. isme koi nayi baat nahi.. aapki baat main kal hi samajh gaya tha par main ye kahna chah raha tha ki mujhe sep 06 mein wakai blog ke bare mein idea nahi tha.. aur main sure hu ki maine blogging ke purpose se id nahi banaya hoga..

jis site par aap login karte hai ye zaroori bhi nahi ki uske bare mein aapko sab idea ho. main kauthool wash bhi ids banata hu.. aur baad mein yaad bhi nahi hota..

khair aapka aaj ka aalekh badhiya raha..

Rachna Singh said...

thanks mr ghost buster for clearing one misnorm i had between email id and blogger id i feel you are right at this point of time but i wil still study it furthur to increase my knowledge and if there is something which is contradicting your statement then i will post it here
कई ब्लॉग्स पर अनोनिमस कमेन्ट करने का ऑप्शन नहीं होता. अगर आप वहां कमेन्ट देना चाहते हैं तो आपको किसी आईडी की आवश्यकता पड़ेगी. लेकिन बात यही है कि आईडी बनाने के लिए भी आपको ब्लॉगर पर जाना ही होगा, और ऐसे में आपकी ये बात स्वीकार नहीं की जा सकती कि आप ब्लॉग के बारे में कुछ नहीं जानते.
here again let me ask you to explain
suppose the mail is rrrr@gmail.com and u have disbled the anonymous option then I feel i can comment on your blog without making a blogger id but just with pass word but you are saying लेकिन बात यही है कि आईडी बनाने के लिए भी आपको ब्लॉगर पर जाना ही होगा,
may be i am understanding clearly so do clarify

Rachna Singh said...

may be i am understanding clearly so do clarify
PLEASE READ IT AS
MAY BE I AM NOT UNDERSTANDING CLEARLY SO DO CLARIFY

Lovely kumari said...

main us aawaj kya karun jo maine phon par suni..muskil hai tathyon ko usse jod kar dekhana mere liye..khiar mere liye wah vastwik hai

रचना said...

@lovely
hi
the issue now is that whether rakshanda knew about blogging when she says she did not know !!!
the issue whether rakshanda is male or female as per mr ghost buster is not the issue so we should not talk about it !!!!! making it man and woman tug of war
the issue whether writing with a psuedo name { as mr ghost buster is doing } or writng with a pseudo identity {as mr ghost buste feels blogger rakshanda is doing } is equally fradulent or as mr ghost buster says that the second is fraud and the first is not still remains to be cleared !!!!
because who will certify that mr ghost buster is not a woman but a man and that rakhanda ia not man but woman ???????
the basic core problem is if mr ghost buster can prove that rakshanda is a man posing as woman then he has to give the complete documentary evidence of the same but in the process he will have to come out with his true colours , his own name and identity
I WISH WE HAD AN OPTION IN THE PASSPORT OR VOTER I CARD OR SOME PHOTO IDENTIY WHERE in future we all would be required to fill true blogger identity to solve all future confusions because my dear
the voice main us aawaj kya karun is not an admissiable proof in court of law and we need to establish our identites in such a way that if someone tells us that no you are a man we can go to court with a admissable proof

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

The VOICE + Identity of a BLOGGER or any other person can be FALSIFIED !
Even a Valid Passport or Identification Card of any country can be falsified.
There are Cheats & Frauds in every country.
One can not reveal a prson unless you really KNOW WHO it is, Man or a Woman if a Family Member like a Mother can not confirm that person's IDENTITY.
Assasins & people who want to achieve & establish their "annonimity " go to great lengths even change their faces by plastic surgery & change compelete personal history to remain annonymus.
So what is the other option ?
Who is in charge of TRUTH here ?
I can say this ,
HINDI BLOGGING has no such adinistrative or governing body to establish such FACTS.
So , each & every BLOGGER in HINDI or English is free to do as they please.
Isn't that True ?

अफ़लातून said...

ओझाजी (नाम भी हिन्दी में),
मेरे ब्लॉगर में ब्लॉग निर्माण के समय वह गूगल से स्वतंत्र था और जीमेल की शुरुआत नहीं हुई थी। गलफ़हमियों को दूर करने के लिए एक दृष्टांत । सविनय,

Ghost Buster said...

@ आदरणीय अफ़लातून जी: तो? कुछ स्पष्ट नहीं हुआ.

LinkWithin